लाइफ यूनियन ही है अस्थायी कर्मियों की सच्ची हितेषी

मित्रों

LIFE द्वारा न्यायालय में दाख़िल contempt petition की छायप्रति जिस के ऊपर LIC को भर्ती की कार्यवाही त्वरित रूप से करनी पड़ रही है।

6 thoughts on “लाइफ यूनियन ही है अस्थायी कर्मियों की सच्ची हितेषी

  1. From Branch office bahraich .branch code –224

    Temporary worker is being exploited at Bahraich branch. Please help us guys

  2. प्रति, दिनांक : 18 जुलाई 2017
    श्रीमान् अध्यक्ष महोदय,
    भारतीय जीवन बीमा निगम
    LIC of India, Central Office,
    5th Floor, Yogakshema,
    Mumbai- 400021
    The Chairman, Chairman@licindia.com
    The ED Personnel, ed_personnel@licindia.com ,
    The CO Personnel, co_personnel@licindia.com
    The Zonal manager Bhopal , cz_zms@licindia.com
    विषय : 22 फरवरी 2017 को माननीय सर्वोच्च न्यायाधीश महोदय सहित तीन जजों के हस्ताक्षरयुक्त आपके द्वारा दायर सभी 6 क्रिएटिव पीटीशन ख़ारिज होने के बाद आज 18 जुलाई 2017 को 147 दिन पूरे हो रहे हैं LIC मैनेजमेंट बतलायेगा की इस संबंध में LIC सेंट्रल ऑफिस अनकनडिसनल केस ऑफ़ Observation कब तक पूरा करेगा.
    संदर्भ : Ho.S.C. Contempt of court Public Interest Litigation Diary No. 24881/2017.Ajay Jain ABC Shajapur (M.P.)
    महोदय ,
    वर्ष 1991 में लेबर कोर्ट में लगे केस के टरमिनेटेड कर्मचारियों के हित में एलआईसी द्वारा उन्हें पुनः बहाल किया जावे यह फैसला आने के बाद आज दिनांक तक LIC मैनेजमेंट
    18 मार्च 2015 के पश्चात
    9 अगस्त 2016 के बाद
    22 फरवरी 2017 को
    LIC द्वारा दायर सभी 6 क्रिएटिव पिटीशन खारिज होने के बाद अनकनडिसनल केस ऑफ़ Observation कब तक पूरा करेगी
    भारत में, सरकार और LIC मैनेजमेंट, माननीय सर्वोच्च न्यायालय का जजमेंट आता है, उसका पालन करेगे की जिस समय जिस वर्ष जिस परिस्थिति में केस दायर किया गया था उस प्राथमिकी रिपोर्ट पर अमल करेगी ?
    भारत की सबसे बड़ी देशभक्त, लोक कल्याण के कार्यो मैं सरकार को सहयोग देने वाली, सबसे बड़ी नगद पूंजी वाली भ्रष्टाचार के सामान्य आरोपों से मुक्त, जीवन के साथ भी और जीवन के बाद भी, अब तो जीवन के 100 वर्षों तक थी साथ देने वाली ऐसी भारतीय जीवन बीमा निगम संवैधानिक संस्था अपने ही देश के नागरिकों जो उस समय के युवा थे उनके सुनहरे 28 वर्षों का हरण करके अनकनडिसनल केस ऑफ़ Observation की प्रोसेस कहा तक पहुचि हे.
    सही-सही बात सीधे-सीधे करे, और बतलावे, आप अपने मन की करिए लेकिन मनमानी ना करिए लगभग 10000 टरमिनेटेड कर्मचारियों के सब्र का सैलाब टूट ने दीजिये.सभी 6 अपीलेंट यूनियनों को भरोसे में लीजिये माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा प्राप्त लिस्ट और सभी 6 अपीलेंट यूनियनों की लिस्ट से पक्का मिलान कर के 9 अगस्त 2016 के आदेश को तुरंत पूरा कीजिये साहब .
    हम इस देश के सच्चे नागरिक और शरीफ शहरी हैं जिन की डॉ भीमराव अम्बेडकर साहब द्वारा रचित भारत के संविधान,कानून और माननीय सर्वोच्च न्यायालय पर 28 वर्षों बाद अब भी पक्का भरोसा हे.
    सत्यमेव जयते
    (One of the temporary terminated Employee)
    Ajay jain
    Ho. S.C.Diary No. 24881/2017
    18.7.2017
    Copy To , Central Office, Mumbai, All Zonal Offices , All Divisional Offices LIC of India.
    &
    Shri Rajesh Nimbalkar Sir
    National Working President
    All India National Life Insurance Employees Federation. INTUC
    MOB- 9923798632
    email- rajesh.nimbalkar@licindia.com
    (One of the temporary terminated Employee LIC )
    ( Ajay Jain )
    Ho.S.C. Contempt of court Public Interest Litigation Diary No. 24881/2017
    ABC Point, New Road,
    Shajapur (M.P.)-465001
    Mob. 98264-88870
    E-mail: abc.infopundit@gmail.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *