FLOOD RELIEF UNDERTAKEN BY GUWAHATI DIVISIONAL UNIT FOR VICTIMS OF FLOODS IN ASSAM

THE DIVISIONAL UNIT OF LIFE UNION ABLY LEAD BY THE VERY DYNAMIC AND ENTERPRISING SHRI RANJIT MISHRA HAVE COME FORWARD IN FLOOD HIT VILLAGES AND PROVIDED RELIEF TO HUNDREDS OF VILLAGERS BY GIVING THEM FOOD, CLOTHES AND OTHER NECESSITIES OF DAILY NEEDS. lOOKING AT THE HUGE GATHERING AT THE RELIEF SITE, THE LOCAL ADMINISTRATION PROVIDED SECURITY AND SUPPORT STAFF TO ASSIST THE VOLUNTEERS OF LIFE UNION. WE ACCLAIM THE NOBLE WORK OF OUR GUWAHATI COLLEAGUES AND HOPE THAT THIS ACT WILL ENCOURAGE OTHER UNITS TO COME FORWARD AT THIS TIME OF NATURAL CALAMITY RAVAGING THE COUNTRY SIDE.- MANOHAR VEIGAS.

Detailed circular on Meeting with MoS, Finance – Manohar Veigas.

Dear Friends,

Today your General Secretary met Hon’ble Minister of State for Finance, Shri Santosh Gangwar ji in New Delhi along with our Delhi Unit Office bearers. The talks were held in the morning at his residence and then he once again invited us at his Finance Ministry’s Office for detail discussion.

We expressed concern over the inordinate delay on 5 day Week and insisted that the same be approved at the earliest and said that LIC cannot stand isolated when all the Institutions under general Insurance have the privilege of 5 days week. The Delegation also pointed that new Wage Revision is due from 1st August 2017 and 5 Day Week benefit offer was part of the previous charter. Hon’able Minister assured to look into the matter.

On one more option for Pension, the Minister acknowledged the long standing demand by LIC & Associations. However, he remained non committal.

On clearance of Bonus to eligible employees for F.Y. 2014-15 & 2015-16, he assured to look in to the matter as to why clearance has not been done.

On Wage Revision, the Delegation impressed upon the Ministry for giving necessary directions to LIC Management for beginning wage negotiations at the earliest. Hon’ble Minister acknowledged the point.

Delegation also took up the issue of unfriendly Sports Policy in LIC. Hon’ble Minister asked for a detail letter in this regard.

All India Life Delegation also pleaded for exemption of GST on Life Insurance Premium.

The Delhi Delegation was represented by Shri Satish Kandwal, Shri Ravinder Chopra, Shri Prashant Payal & Shri Pramod Rana.

Meeting of Central leadership with MoS (Fin)

Met MoS for Finance, Shri Santosh Gangwar ji at his residence today morning. After hearing patiently to our pending demands & other issues, he has again called us to his Office today.

From right Santosh Gangwar, Manohar VEIGAS, Pramod Rana GS delhi, Ravinder Chopra Gs delhi 3 , kandhwalji, GS delhi 2 met on 27/07/2017.

All India Life had a detail discussion on 5 day Week, Final Pension Option , Early resumption of wage negotiation, Bonus rapproval of 2014-15, 2015-16 to eligible employees & other employees issue. Detail Circular to follow.

Meeting for Temporary employees held at Surat

A meeting was held by the Divisional unit of LIFE at SURAT. The special meeting was convened to apprise the temporary employees who were issued verification letters by the management in the follow up to the CGIT case after a leagal notice was served by the Central Leadership of Life to the Management and a contempt petition also filed in the Supreme court against the arbitrary one sided and opaque procedure followed in abosrption process by the Management. The meeting was atteded by the temporary employees and they were addressed by the local leaders including Shri Auditor and Shri Harish Singh.

ALTERNATE PARKING DUE TO METRO CONSTRUCTION IN LUCKNOW

साथियों नमस्कार
आज आप सभी साथियों को यह बताना है कि लखनऊ मंडल कार्यालय तथा मंडल कार्यालय की निकट की शाखाओं में कार, स्कूटर, मोटर साइकिल तथा साइकिल पार्किंग एक विकट समस्या बन गई है।
जब से मेट्रो का काम हजरतगंज में प्रारंभ हुआ है, तब से हजरतगंज तथा आसपास की शाखाओं के अधिकारियों तथा कर्मचारियों को अपने वाहनों को पार्क करने में काफी दिक्कतें आ रही हैं, लालबाग शाखा का पूरा का पूरा पार्किंग स्थल तथा मंडल कार्यालय का एक बड़ा पार्किंग भूभाग मेट्रो कंपनी ने अधिग्रहीत कर लिया है, जिससे पार्किंग स्थल संकुचित हो गया है, ऐसी जानकारी है कि कुछ लोगों ने वाहन लाना छोड़ दिया है, कुछ लोग शेयर करके आने लगे हैं, हालांकि यहअच्छी बात है पर सबसे दुखद यह है कि कुछ लोग निजी पार्किंग स्थलों में अपने वाहन पार्किंग शुल्क देकर खड़े करने को विवश हैं।
आज इस संबंध में हमने अपने वरिष्ठ मंडल प्रबंधक को अपने संगठन, लाइफ इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन की ओर से न केवल आधिकारिक रुप से सूचित किया बल्कि उनसे वैकल्पिक समाधान के रूप में, सरोजिनी नायडू भूमिगत पार्किंग या नगर निगम कार्यालय के समक्ष की भूमिगत पार्किंग में LIC की ओर से स्थान सुरक्षित कराने के लिए प्रार्थना की, हमने उन से अनुरोध किया कि जब एलएमआरसी अधिग्रहीत स्थान का शुल्क LIC को दे रही है तो मंडल की यह जिम्मेदारी बनती है कि उससे होने वाली असुविधा के बदले में LIC कुछ किराया खर्चा करके हम कर्मचारियों को अन्यत्र कहीं सुविधा उपलब्ध कराए।
मित्रों जिन किसी साथियों को पार्किंग की असुविधा आ रही है उनसे मेरा यह करबद्ध निवेदन है कि कम से कम वह इस विषय में अपने उच्चाधिकारियों को अवगत कराएं ताकि समस्या का वास्तविक स्वरुप सामने आए और प्रबंधन उसका समुचित समाधान निकालें इस बात को तो कतई नकारा नहीं जा सकता की लालबाग शाखा मंडल कार्यालय तथा जिला शाखा एवं नगर शाखा इस अव्यवस्था के सीधे शिकार हैं इसलिए आप सभी अपने अपने स्तर पर इस समस्या के विषय में संबंधित अधिकारियों को अवगत कराएं और उनसे समाधान निकलवाने की प्रार्थना करें क्योंकि यह समस्या किसी वर्ग विशेष की नहीं है तथा कोई भी वर्ग इस समस्या से अछूता नहीं है अतः यह दायित्व हम सबका है कि हम सब मिलकर इस समस्या के समाधान के प्रति अपने दायित्व का निर्वहन करें
धन्यवाद
अजहर जमाल सिद्दीकी

A letter from Temporary class to AIIEA

सम्मानीय अध्यक्ष महोदय

(AIIEA)

               Date: 7.7.2017

ALL INDIA INSURANCE EMPLOYEES’ ASSOCIATION
LIC BUILDING SECRETARIAT ROAD HYDERABAD 500063
Email: aiieahyd@gmail.com
PRESIDENT: Phone: 040-23244595

विषय Cir.No.11/2017 दिनांक 3 जून 2017 को CGIT के संबंध में आपके द्वारा प्रकाशित पत्र के संबंध में.
महोदय,
3 जून 2017 को CGIT के संबंध में आपका पत्र प्रकाशित हुआ जिसमें आपने LIC को letter dated 23/5/2017 raising serious concerns over the improper implementation of the Supreme Court Judgment relating to the CGIT Award dated18/6/2001 in the I.D.No.27 of1991 passed by the Learned Presiding Officer Sri K.S. Srivastava. We regret that leave alone a response from you, this letter on a very important subject is not even acknowledged के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद
श्रीमान महोदय आप ने माननीय Supreme Court Judgments of 18/3/2015 and thereafter on the Review Petition Dated 29/4/2015 moved on behalf of LIC.के बारे में लिखा के लिए भी आपको धन्यवाद की आपने माननीय सुप्रीम कोर्ट की बात को मैनेजमेंट के सामने रखा.

लेकिन हम जानना चाहते हे कि संविधान के अनुसार भारत में :-
1) माननीय सुप्रीम कोर्ट
2) माननीय हाई कोर्ट
3) माननीय CGIT
में सबसे बड़ा कोन हे ? (LIC मेनेजमेंट और ALL INDIA INSURANC EEMPLOYEES ’ASSOCIATION AIIEAकी नज़र में ) क्यों की :-
माननीय सुप्रीम कोर्ट के Judgment 18.3.2015, के बाद 9.8.2016, और 22.2.2017 के स्पष्ट फेसले आने के बाद भी आप दोनों (LIC & AIIEA)की जुगलबंदी का राग Statement of claim submitted by the Association having The name of the applicant to the CGIT. The LIC cannot restrict the implementation Of the CGITA ward only to the petitioners. The Award is applicable to al eligible Candidates who qualify having worked during the stipulated period. The CGIT Award and the Supreme Court Judgment is not in persona but they are in rem. हे.
आप दोनों (LIC & AIIEA) 57 पेज के CGIT AWARD पॉइंट 1 से लगायत 94 पोइंट को पढ़े कि, पेज न .24से पॉइंट 32 ,33,35,और 36 में पूरा प्रकरण स्पष्ट होता हे कि जो अभी शामिल हे वह और जिन्हें मालूम नहीं हे उन्हें मैनेजमेंट को विज्ञापन निकाल कर सूचित करके LIC में नौकरी में रखना हे पुरे हित लाभ के साथ को पुनः पढ़े और मैनेजमेंट को भी पढावे दोनों की गलतफहमी दूर होगी साहब.

मानाकि आप दोनों (LIC & AIIEA) हमारे हितेषी हे और आप तो ख़ासतौर से मजदूरो के हितो के लिए ही जानेजाते हे कामरेड साहब. लेकिन हमारे ऊपर किस दुश्मनी के कारण डाका डाल रहे हे साहब.

आदरणीय कामरेड साहब AIIEA हमें हमारी क़ानूनी जंग हमारी 6 अपिलियंत यूनियनों के साथ लड्ने दो
18.3.2015, के बाद 9.8.2016, और 22.2.2017के बाद  लाइफ यूनियन और  लायन अजय जैन के माननीय सुप्रीम कोर्ट की साइट पर डायरी नम्बर आप और आप की LIC को भी मालूम ही हे माननीय सुप्रीम कोर्ट से 15 जून 2017 के बाद एक और सप्लीमेंट्री लिस्ट मैनेजमेंट को मिल गई हे और उन्ही लिस्टों के अनुसार बगेर कोई शर्तो के पुरे हितलाभो के साथ 9.8.2016 के आदेशानुसार माननीय सुप्रीम कोर्ट को, LIC मैनेजमेंट एम्प्लिमेशन के पेपर, लगने वाली तारीख को देगा कि नहीं ? या इसतरह के मेटर में कानूनन नान बेलेबल अरेस्टिंग वारंट का इंतजार करेगा. विचार करे हम किसी की बदनामी नहीं चाहते लेकिन वो नहीं मानें तो हम क्या कर सकते.

आदरणीय कामरेड साहब AIIEA, दिनांक 13 अक्टूबर 2016 को CGIT के संबंध में आपके द्वारा प्रकाशित पत्र के संबंध में.14.10.2016 को आप को पत्र लिखे गए और आप ने 17.10. 2016 को सुबह से ही चेयरमेन साहब और उनकी टीम को हेदराबाद बुलवाकर अपनी (LIC & AIIEA)की जुगलबंदी को ब्रेक किया था और एक पत्र उन्हें दिया था

ऐसी ही उम्म्मीद पुनः हमे हे आप से कि आप माननीय Supreme Court के 18/3/2015 और 9.8. 2016 को आये जजमेंट को अक्षरशः लागु करने के लिए लिखेगे / लागू करवाकर सही- सच्चे कामरेड साबित होगे और हम सब आपको लाल सलाम करेगे .

आशा है इस बात को गंभीरता से लेंगे और सभी अस्थाई कर्मचारियों जिसको माननीय सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार कामगारों को स्थाई करने का और LIC से पुरे हितलाभो के साथ देने का लिखित में दिया गया है कृपया माननीय सुप्रीम कोर्ट के पूरे आदेश को दोबारा पढ़े और गलतफहमियों को दूर करें तथा जो गलत तथ्य के साथ आपने को जो पत्र Cir.No.11/2017 दिनांक 3 जून 2017 को CGIT के संबंध प्रकाशित किया है उसके लिए आशा है आप, सभी स्थाई होने जा रहे कर्मचारियों के हित में अपना खंडन, सूचना को भ्रम फैलाने वाली बतलाते हुए उसके ऊपर खेद प्रकाशित करेंगे.
Link of the Contempt of Court judgment dated 9th August 2016 of Honorable Supreme Court:
http://supremecourtofindia.nic.in/FileServer/2016-08-09_1470741552.pdf

Link of the judgment dated 18th March 2015 of Honorable Supreme Court:
http://judis.nic.in/supremecourt/imgst.aspx?filename=42497 )

धन्यवाद
Sincerely,
(One of the temporary terminated Employee)
7.7.2017

WORKING COMMITTEE OF LIEA 2/7/2017

साथियों नमस्कार
आप सभी को सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आज दिनांक 2 जुलाई 2017 को लखनऊ मंडल के कांफ्रेंस हॉल में लाइफ इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन लखनऊ इकाई की दूसरी कार्यकारणी अत्यंत सफलतापूर्वक संपन्न हुई।
कार्यक्रम में क्षेत्रीय महामंत्री श्री रघुवीर सिंह, क्षेत्रीय कार्यकारी अध्यक्ष श्री प्रजापति जी तथा यादव जी सहित अन्य साथियों ने अपनी सहभागिता दी।
आज के कार्यक्रम की सफलता का अनुमान केवल इस बात से लगाया जा सकता है कि कल से ही हो रही मूसलाधार बारिश के बावजूद कॉन्फ्रेंस हाल में आमंत्रित कार्यकारिणी सदस्यों की उपस्थिति अत्यंत उत्साहवर्धक थी, कुछेक साथियों को छोड़कर लगभग सभी साथी कार्यक्रम में पूरे उत्साह से सहभागी बने तथा कार्यक्रम के समापन तथ डटे रहे, स्थानीय शाखाओं के अतिरिक्त पलिया शाखा, बांगरमऊ शाखा के सदस्यों ने भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई आज कार्यकारिणी बैठक में तमाम लंबित मुद्दों सहित संगठन की भविष्य कालीन योजनाओं की रूपरेखा तय की गई, संगठन के अध्यक्ष श्री दिनेश सिंह के गंभीर प्रयास, आज की कार्यकारिणी की सफलता का प्रत्यक्ष प्रमाण था, सभी शाखाओं के प्रतिनिधियों ने अपनी शाखाओं की वर्तमान स्थिति से अवगत कराया प्रारंभ में संगठन के पिछली कार्यकारिणी से आज की तिथि तक कराए गए सदस्यों के कार्यों पर प्रकाश डाला गया, जिनमें विनोद कश्यप की पीजी 2 संवर्ग में स्थानीय पोस्टिंग, अनुकंपा मूलक आधार पर स्थानीय शाखाओं में दो पदस्थापनाएं, महिला साथियों द्वारा सफल महिला दिवस का आयोजन, स्थानीय तथा मुफस्सिल शाखाओं में निरंतर, शनै – शनै सदस्यों की बढ़ती हुई सदस्यता तथा शाखाओं के निरंतर दौरे करके सदस्यों की समस्याओं को सुनना इत्यादि विषयों पर चर्चा केंद्रित रही, इसके अतिरिक्त भी तमाम छोटे बड़े मुद्दे चर्चा का विषय रहे।
बांगरमऊ शाखा से साथी रवि शर्मा ने शाखा कार्यालय किसी दूसरे अनुपयुक्त भवन में स्थानांतरित किए जाने के प्रबंधन के एक तरफा फैसले की जानकारी दी तथा अपना रोष व्यक्त किया इस पर कार्यकारिणी में उपस्थित सभी सदस्यों ने उन्मुक्त कंठ से विरोध प्रकट किया तथा यह आश्वासन भी दिया कि बिना संतुष्टि के कार्यालय को दूसरे भवन में स्थानांतरित किया जाना ठीक नहीं है संगठन प्रत्येक स्तर पर इसका विरोध करेगा।
आलमबाग शाखा से आए हुए साथियों का प्रतिनिधित्व करते हुए साथी विनोद कश्यप ने कार्यालय भवन में नवीनीकरण तथा विभागों के भौगोलिक वितरण में अनियमितता के अतिरिक्त 3 स्टोरी के भवन में लिफ्ट ना होने के कारण प्रथम तल से तृतीय तल पर बार-बार आने जाने से कर्मचारियों तथा विशेषकर ग्राहकों को होने वाली असुविधा से अवगत कराया. इस पर भी संगठन ने सकारात्मक आश्वासन दिया इसके अतिरिक्त शाखा कार्यालयों में दिन-प्रतिदिन होने वाली असुविधाओं जिनमें विशेषकर एयर कंडीशनर का ठीक ना होना, आवश्यकतानुसार फर्नीचर की कमी, कार्यालयों में लगभग सभी शाखाओं में खजांची पदों का ना भरा जाना तथा कुछ एक स्थानीय मुद्दों जिनमें सी ए बी शाखा को मुख्य भवन से जोड़ने वाले मार्ग को खुलवाए जाने का पुनःआग्रह किया गया।
वैसे तो संगठन की कार्यकारणी में तमाम साथियों ने बढ़-चढ़कर भागीदारी की पर IT विभाग से आई मल्लिका मुखर्जी जी ने अपने उद्बोधन के समय संगठन के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि उनके पूर्ववर्ती संगठन ने आईटी विभाग की महिलाओं से लगभग ₹50000 लेवी के रूप में ठग लिया पर आवश्यकता पड़ने पर कभी भी किसी प्रकार का सहयोग नहीं किया, उन्होंने अपने उद्बोधन में एक विशेष घटना का उल्लेख भी किया जिससे IT विभाग की महिलाएं काफी आहत हुई थी, पर उस संगठन के महामंत्री या अन्य सदस्यों को बार बार शिकायत करने पर भी, उन महिला साथियों की कातर प्रार्थना पर किसी ने कभी भी एक न सुनी, पर अपने प्रिय लाइफ संगठन की समीक्षा करते हुए मल्लिका जी ने बड़े भावावेश में लगभग अश्रुपूरित नेत्रों से कहां कि मुझे लाइफ संगठन के भाइयों पर पूरा भरोसा है तथा यह विश्वास है कि जिस तरह यह लोग काम कर रहे हैं हमें कभी भी असुविधा का सामना नहीं करना पड़ेगा।
आर्थिक समीक्षा करते हुए संगठन के लिए आर्थिक योगदान देने वालों का उल्लेख भी किया गया, संगठन को आर्थिक संबल प्रदान करने के लिए गोला शाखा से साथी सुकांत चक्रवर्ती ने संगठन के कार्यों से प्रसन्न होकर 21 हजार रुपए का आर्थिक योगदान किया, अभी 30 जून को सेवानिवृत्त हुई इंदिरा नगर शाखा की सुश्री बिना कश्यप जी ने संगठन को 11000 रूपय का आर्थिक योगदान किया, इतना ही नहीं एक विशेष कार्यक्रम के प्रयोजन में सोमेंद्र श्रीवास्तव और साथी आनंद मिश्रा ने प्रत्येक 5-5 हजार रुपए के योगदान की घोषणा की, इसके अतिरिक्त तमाम साथियों की तरह नीलम कुशवाहा सहायक जिला शाखा और पलिया शाखा से एहतेशाम अली ने 5-5 सौ रुपए आर्थिक सहयोग राशि प्रदान करते हुए यह भी कहा कि आगे भी हम संगठन को ऐसे ही सहयोग करते रहेंगे।
ट्रांस गोमती शाखा के साथी इंद्रमोहन श्रीवास्तव ने संगठन के आर्थिक सहयोग के लिए एक अत्यंत ही महत्वपूर्ण सुझाव दिया उनका कहना था कि हम 160 या 170 लोग यदि प्रत्येक माह सौ-सौ रुपए की ही तुच्छ राशि संगठन के अकाउंट में डालें तो बहुत कम समय में संगठन आर्थिक रुप से संपन्न हो जाएगा,
साथी गिरिधर राय चौधरी ने अपने संक्षिप्त सारगर्भित उद्बोधन में न केवल संगठन को सशक्त बनाने के लिए अपने कर्तव्यों एवं दायित्वों का अनुपालन का आह्वान किया बल्कि अपने, पालनहार, भारतीय जीवन बीमा निगम के रक्षार्थ हमारे कर्तव्यों व दायित्वों के प्रति सजगता का सशक्त संदेश दिया। उन्होंने स्पष्ट किया कि निगम के अस्तित्व से ही हमारा या हमारे संगठन या हमारे परिवार का अस्तित्व सुनिश्चित होगा
क्षेत्रीय महामंत्री ने अपने उद्बोधन में लंबित समस्याओं जिनमें फाइव डेज वीक, ट्रांसफर एंड मोबिलिटी पॉलिसी,कैडर स्ट्रेंथ ,पैटरनिटी लीव, चाइल्ड केयर लीव तथा CG IT पर अपने विचार रखें तथा कर्मचारियों के प्रश्नों के उत्तर भी संतोषजनक रूप से दिए।
उन्होंने संगठन की कार्य प्रणाली की भूरि-भूरि प्रशंसा की, कार्यकारिणी समिति की बैठक के परिपेक्ष्य में साथी मनोज बनर्जी का वक्तव्य उल्लेखनीय है, उन्होंने कहा कि “हम पहले भी दूसरे संगठन में रहे हैं मगर आज तक कार्यकारिणी समिति की बैठक क्या होती है हमें मालूम ही नहीं था, परन्तु लाईफ के अस्तित्व में आने के मात्र 6-7 माह के छोटे से अंतराल में ही संगठन द्वारा कार्यकारिणी की दो बैठक किया जाना निश्चित रूप से गौरव से कम नहीं। आज के कार्यक्रम का प्रमुख आकर्षण 30 जून2017 को जिला शाखा से सेवानिवृत्त साथी सैयद आबिद ज़ायर तथा इंदिरा नगर शाखा से सेवानिवृत्त सुश्री बीना कश्यप जी को उनके संगठन के प्रति आस्था तथा सक्रिय योगदान एवं निगम में उनके सफलतापूर्वक योगदान के लिए सम्मानित किया जाना रहा , उनके सम्मान स्वरूप उन्हें एक प्रतीक चिन्ह तथा उपहार स्वरूप एक मेमेंटो, संगठन की ओर से, क्षेत्रीय महामंत्री द्वारा तथा संगठन के साथियों द्वारा हस्तगत करके सम्मानित किया गया तथा यह भी उद्घोषणा की गई कि आगामी वर्षों में निगम से सेवानिवृत्त होने वाले लाइफ के प्रत्येक सदस्य को यथा अवसर उसके संगठन व निगम के प्रति योगदान के लिए ऐसे ही सम्मानित किया जाता रहेगा
अंत में साथी राधेश्याम जी को सभी साथियों के धन्यवाद प्रस्ताव की जिम्मेदारी दी गई, उन्होंने धन्यवाद प्रस्ताव के साथ साथ पिछले संगठन से मिले अपने कड़वे अनुभव पर अपना दुख व्यक्त किया तथा नए लाइफ संगठन की कार्यप्रणाली पर प्रसन्नता एवं संतोष व्यक्त किया, तदुपरांत अध्यक्ष श्री दिनेश सिंह ने कार्यक्रम के समापन की घोषणा की,
कार्यकारिणी की बैठक में आए सभी सहभागियों को हार्दिक धन्यवाद
आपके सहयोग का सदैव आकांक्षी, आभारी व ऋणी
अजहर जमाल सिद्दीकी महामंत्री
लाइफ इंश्योरेंस इंप्लाइज एसोसिएशन लखनऊ